उदयपुर मे एनीकट निर्माण के लिए जिला कलक्टर को दिए जाएंगे निर्देश

 September, 15 2021 3:10 AM Instructions will be given to the District Collector for the construction of Anicut in Udaipur

जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला ने मंगलवार को विधानसभा में कहा कि विधानसभा क्षेत्र उदयपुर ग्रामीण में ग्राम पंचायत जावला में मवेशियों के पीने हेतु पानी की समस्या व पेयजल की समस्या के निवारण के लिए कलेक्टर को एनीकट निर्माण के निर्देश दिए जाएंगे।

उदयपुर मे एनीकट निर्माण के लिए जिला कलक्टर को दिए जाएंगे निर्देश

जयपुर,14 सितंबर। जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला ने मंगलवार को विधानसभा में कहा कि विधानसभा क्षेत्र उदयपुर ग्रामीण में ग्राम पंचायत जावला में मवेशियों के पीने हेतु पानी की समस्या व पेयजल की समस्या के निवारण के लिए कलेक्टर को एनीकट निर्माण के निर्देश दिए जाएंगे।
डॉ.कल्ला प्रश्नकाल में विधायकों द्वारा इस संबंध में पूछे गए पूरक प्रश्नों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने बताया कि वर्तमान में ग्राम जावला स्थित बड़ली वाला नाका स्थल पर एनीकट निर्माण की कोई योजना प्रस्तावित नहीं है, इसलिए जिला कलक्टर को मनरेगा के तहत एनिकट निर्माण के लिए निर्देश दिये जाएंगे।
    इससे पहले विधायक श्री फूलसिंह मीणा के मूल प्रश्न के लिखित जवाब में उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत जावला में सम्मिलित 2 ग्राम जावला एवं नला हैण्डेपम्प जल योजना से वर्तमान में लाभान्वित हैं तथा इन ग्रामों की वर्तमान अनुमानित जनसंख्या क्रमश: 2591 एवं 523 है। ग्राम जावला एवं नला में पर्याप्त रूप से स्थापित एवं क्रियाशील क्रमश: 90 एवं 22 हैण्डपम्पों से वर्तमान में पेयजल उपलब्धि कराया जा रहा है ।

Disclaimer :​ All the information on this website is published in good faith and for general information purpose only. www.newsagencyindia.com does not make any warranties about the completeness, reliability and accuracy of this information. Any action you take upon the information you find on this website www.newsagencyindia.com , is strictly at your own risk

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.wincompete&hl=en

ताज़ा खबरें
पहले जनता के सार के साथ स्वच्छ सर्वेक्षण, 2022 का शुभारम्भ
पहले जनता के सार के साथ स्वच्छ सर्वेक्षण, 2022 का शुभारम्भ

 September, 28 2021 3:16 AM

73 शहरों में स्वच्छता के मानकों पर शहरों को श्रेणीबद्ध करने के उद्देश्य से एमओएचयूए द्वारा 2016 में शुरू किया गया, स्वच्छ सर्वेक्षण 4,000 यूएलबी को शामिल करते हुए आज दुनिया का सबसे बड़े शहरी स्वच्छता सर्वेक्षण बन गया है। सर्वेक्षण की रूपरेखा कई साल के दौरान विकसित हुई है और आज यह एक विशेष प्रबंधन टूल बन गया है, जो स्वच्छता परिणामों को प्राप्त करने के लिए जमीनी स्तर पर कार्यान्वयन को गति देता है। वास्तविकता यह है कि एसएस 2021 का पिछला संस्करण महामारी के चलते जमीनी स्तर पर पैदा चुनौतियों के बावजूद रिकॉर्ड समय में पूरा किया गया था और इसमें 5 करोड़ नागरिकों की प्रतिक्रिया लेना एक बार फिर से ‘सम्पूर्ण स्वच्छता’ के लक्ष्य पर नागरिकों के जिम्मेदारी लेने का प्रमाण है। नागरिक अब उत्सुकता से इसके परिणामों का इंतजार कर रहे हैं, जिसकी मंत्रालय द्वारा जल्द ही घोषणा की जाएगी।

Read More..
आयुष्मान भारत-डिजिटल मिशन, अब देश भर के अस्पतालों के डिजिटल स्वास्थ्य समाधानों को एक-दूसरे से जोड़ेगा
आयुष्मान भारत-डिजिटल मिशन, अब देश भर के अस्पतालों के डिजिटल स्वास्थ्य समाधानों को एक-दूसरे से जोड़ेगा
↑ To Top